Explore one's hidden destiny

वास्तु विश्लेषण 'का विज्ञान'

वास्तु शब्द संस्कृत के 'वास' से बना है जिसका अर्थ है "निवास करना"। आधुनिक युग में, वर्तमान समाज अपने घर, भवन, दुकान, कार्यालय या औद्योगिक परिसर के निर्माण में वास्तुशास्त्र के विज्ञान के उपयोग के लिए अधिक महत्व देता है और बहुत सराहना किया जाता है। वास्तुशास्त्र के सिद्धांत भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में समान रूप से लागू होता है। यह भारतीय प्राचीन शास्त्र धर्म, जाति और पंथ से ऊपर है। वास्तुशास्त्र किसी भी अन्य विज्ञान की तरह धर्मनिरपेक्ष है। वास्तुशास्त्र एक प्राचीन विज्ञान है जिसमें यह बताया गया है कि कैसे नकारात्मक ऊर्जाओं को खत्म किया जाए और सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाया जाए। वास्तुशास्त्र के सही कार्यान्वयन से घर, भवन की संरचनाओं, पांच तत्वों और ब्रह्मांड के बीच संतुलन बनाया जा सकता है। प्राकृतिक तत्व पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश(अंतरिक्ष),ये तत्व हमारे शरीर पर विभिन्न ऊर्जा और प्रभाव को पैदा करते हैं इसलिए वास्तु के माध्यम से इन तत्वों का संतुलन संतुलन बनाए रख सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने का एक सशक्त माध्यम है।

घर मुख्यतः दीवारों, फर्श, दरवाजा, घर की खिड़की(विंडो), छत,फर्नीचर आदि से युक्त एक सुखद आश्रय है। एक आदर्श घर वह है जिसमें किसी का परिवार एक दूसरे के साथ सभी आपस में खुशी और सौहार्दपूर्ण संबंधों का आनंद लेता है और सहजता और आराम का अनुभव करता हुआ अपने भविष्य को और बेहतर करने के सपने देखता है। यदि हम वास्तुशास्त्र के सिद्धांत के अनुसार घर या भवन का निर्माण करते हैं तो घर के वातावरण को अधिक सुखी और सोहार्दपूर्ण वातावरण बना सकते हैं। वास्तुशास्त्र का सिद्धांत और महत्व उस जगह के निवासियों, प्रकृति और पर्यावरण के बीच आपसी सामंजस्य जोड़ कर सकारात्मक ऊर्जा बनाये रखना है। ""पुरुषों और महिलाओं के लिए वास्तु का प्रभाव अलग-अलग होता है क्योंकि पुरुषों और महिलाओं में अलग-अलग ऊर्जा का स्तर होता है इसलिए एक ही घर में पुरुषों और महिलाओं पर वास्तु-सबंधी प्रभाव अलग-अलग तरीके से प्रभावित करता है""।

हमारा जीवन बहु-आयामी है और हमारे जीवन को प्रभावित करने के कई कारक हैं जैसे कि हमारा भाग्य, हमारा कर्म, हमारा परिवेश, कुंडली में ग्रहों की स्थिति और उस स्थान का वास्तु जहां हम रहते और काम करते हैं,यह सारे बहु-आयामी कारक मिलकर हमारी दुनिया तथा हमारी मानसिक और भौतिक परिवेश तय करते हैं,इसलिए वास्तुशास्त्र का भी हमारे जीवन में अपना ही अलग महत्व है क्योंकि यह भी हमारे ऊपर अलग ढंग से अपनी उर्जा को प्रभावित करता है इसका सबसे अच्छा उदाहरण पिरामिड,मंदिर की संरचना,मस्जिद की संरचना और गिरजाघर की संरचना है जिसका किसी न किसी रूप में इन चारों धर्म के गुंबज पिरामीडियाकार या साधारण शब्दों में कहें तिकोनाकार या गोलाकार में एक केंद्र बिंदु पर बने होते हैं। इसी ज्यामितीय आकार के कारण पिरामिड में हजारों वर्षों तक ‘mummy’ सुरक्षित अवस्था में रह पाती है या हम लोग मंदिर,मस्जिद या गिरजाघर में पूजा,प्रार्थना के लिए जाते हैं तो हमें शांति का अनुभव होता है ।आकाश मंडल को एक निश्चित ज्यामितीय संरचना द्वारा घेरना यानी निहित ऊर्जा को बांधने का बहुत बड़ा विज्ञान है यह “वास्तुशास्त्र”।यह विज्ञान भी ज्योतिष शास्त्र से संबंधित है मान लीजिए कि किसी जातक का जन्मपत्रिका बहुत अच्छा ग्रह-स्थिति में हो लेकिन वह जातक एक खराब वास्तु घर या कार्यालय में रह रहा है, तो वह जातक मानसिक रूप से अस्त-व्यस्त,बेचैन,तनावपूर्ण माहौल,आमदनी का आना लेकिन पैसे का नहीं टिक पाना जैसी समस्याओं से पीड़ित रहेगा ही।इसी प्रकार इसके विपरीत , यदि किसी व्यक्ति का ज्योतिषीय जन्मपत्रिका खराब है और वह अच्छे वास्तु घर में रहता है, तो जातक संघर्ष की स्थिति रहने के बाद भी वह अपने आसपास शांत और ऊर्जावान वातावरण को महसूस करता है और दैनिक जीवन के संघर्षों और बाधाओं का सामना करने में सक्षम होता है।इसलिए जो व्यक्ति वास्तु शास्त्र के नियमानुसार निर्मित भवन में अपना निवास या कार्यालय नहीं रखता है उसे सही ऊर्जा नहीं मिल पाने के कारण शारीरिक एवं मानसिक बेचैनी,खुद में उलझन,आर्थिक विषमता का सामना करना पड़ता है।कार्यालय में सहकर्मी,अधीनस्थ या अन्य कर्मचारियों के बीच अजीब-सा तनावपूर्ण वातावरण बना रहता है।

प्राचीन वास्तुशास्त्र के अनुसार, किसी वास्तु संबंधी भवन के निर्माण का मुख्य कारण विभिन्न दिशाओं से आने वाली ऊर्जा को एक निश्चित आयाम में बांधकर बढ़ाना है क्योंकि विभिन्न दिशाएं अलग-अलग तत्वों और ग्रहों से संबंधित होती हैं जो हर स्तर पर ऊर्जा के विभिन्न स्तरों का उत्पादन करती हैं। उदाहरण के रूप में दक्षिण-पूर्व दिशा में अग्नि तत्व (अग्नि) का प्रभाव होता है और शुक्र इस दिशा को नियंत्रित करता हैं इसलिए यह दिशा रसोई के लिए सबसे उपयुक्त माना गया है। उत्तर-पश्चिम दिशा का शासक ग्रह चंद्रमा है। उत्तर दिशा सम्बंधित किसी भी विशाल दोष के कारण मानसिक तनाव हो सकता है, पड़ोसियों के साथ झगड़ा हो सकता है, कोर्ट केस जैसी समस्याएं बनी रहती है। यदि कोई वास्तु दोष नहीं है तो यह मन की शांति और अनुकूल वातावरण बना रहता है एवं पड़ोसियों से भी संबंध अच्छे होते हैं।

दक्षिण-पश्चिम दिशा का शासक राहु है। इसलिए यह दिशा अचानक लाभ, वित्तीय स्थिरता लाता है, जीवन में बाधाओं को कम करता है, अगर इस दिशा से सम्बंधित वास्तु दोष हैं, तो उपरोक्त परिणाम विपरीत देता है और निवासी को शराब की लत , विवाहेत्तर संबंध और कुछ मामलों में कारावास की नौबत तक ला देता है।

इसका मतलब यह है कि अगर घर, भवन, कार्यालय, दुकान और औद्योगिक परिसर के प्रत्येक खंड का निर्माण करने के लिए वास्तुशास्त्र के प्रमुख सिद्धांत का प्रयोग करते है तो हम विशेष ऊर्जा के प्रभाव और निवास स्थान के परिवेश के पर्यावरण को बहुत उपयुक्त एवं अनुकूल बना सकते हैं।

कमरे के आकार भी दिशा के अनुसार अलग-अलग होते हैं, घर के उत्तर और पूर्व में कमरा घर के पश्चिम और दक्षिण में कमरे से बड़ा होना चाहिए। पेंटिंग और दीवार के रंग का चयन भी विशेष रूप से छात्र और पूजा कक्ष के लिए ध्यान केंद्रित करने और मन को शांत करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

वास्तु दोष को कम या खत्म करने के लिए भारतीय शास्त्र में अनेक पूजा ,टोटके एवं अन्य विधि प्रचलित हैं।यह अलग-अलग वास्तु दोष पर निर्भर करता है कौन-सा उपाय उस वास्तु दोष के लिए उपयुक्त है। अपने अनुभव और ज्ञान के अनुसार, मैंने आपके सामने कुछ तथ्य रखे हैं, ताकि आप अपने वास्तु दोष को दूर कर सकें और सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त कर सकें।अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें।


Astrologer Cum Vastuvid
Harshraj Solanki

Book Your Consultancy

Send us a message
Looking for Address

NameHarshraj Solanki

LocationBajrangi Chowk, Vidyapatidham Road, Samastipur, Pin - 848503, State - Bihar.

Phone+91 8507227946, 7488662904 (Whats app)

Email[email protected]

Payment Information

SBI A/C No. - 20322597115

IFSC - SBIN0003597

Allahabad Bank A/C No. - 50019760753

IFSC - ALLA0211477